धर्म और राजनीति पर स्वामी विवेकानंद के विचारों का वर्णन कीजिए

 धर्म और राजनीति पर स्वामी विवेकानंद के विचारों का वर्णन कीजिए

स्वामी विवेकानंद जी

धर्म और राजनीति पर स्वामी विवेकानंद के विचारों का वर्णन कीजिए । Describe Swami Vivekananda’s views on religion and politics

स्वामी विवेकानंद जी को भारत ही नहीं बल्की  पूरी दुनिया में महापुरूष के रुप से जाना जाता है. इन्होंने अपना पूर्ण जीवन राष्ट्र को समर्पित किया है. इनका जन्म 12 जनवरी को हुआ जिसे हम युवा दिवस के रूप में मनाते है.  विवेकानंद जी के द्वारा शिकागो की धर्म संसद में दिया हुआ भाषण आज भी पूरे विश्व में प्रसिद्ध है. इनके विचार समाज के सभी वर्गों के लोगो विशेषकर युवाओं एवं विद्यार्थियों के लिए अत्यंत प्रेरणादायक है. जिनकी सहायता जीवन को उत्कृष्ट बनाया जा सकता है. इस लेख में हम स्वामीजी के धर्म और राजनीति पर स्वामी विवेकानंद के विचारों का वर्णन कीजिए । Describe Swami Vivekananda’s views on religion and politics को जानने का प्रयास करेंगे.

describe-swami-vivekanandas-views-on-religion-and-politics
स्वामी विवेकानंद जी

जिंदगी का रास्ता बना बनाया नहीं मिलता है स्वयं को बनाना पड़ता है जिसने जैसा मार्ग बनाया उसे वैसे ही मंजिल मिलती है

उठो जागो और तब तक नहीं रुको जब तक लक्ष्य ना प्राप्त हो जाए

सत्य को हजार तरीकों से बताया जा सकता है फिर भी एक सत्य ही होगा

बस वही जीते हैं जो दूसरों के लिए जीते हैं हम भले ही पुराने घाव को स्वर्ण परत से ढक कर रखने की चेष्टा करें, लेकिन 1 दिन ऐसा आएगा जब वह स्वर्ण परत भस्म हो जाएगा और वह घाव दुनिया के सामने प्रकट हो जाएगा

संभव की सीमा जानने का केवल एक ही तरीका है असंभव से भी आगे निकल जाना

ज्यादा रिश्ते होना जरूरी नहीं है उनमें जीवन होना जरूरी है

जितना बड़ा संघर्ष होगा उतनी ही बड़ी होगी जीत होगी

आप एक बार अपने आप से बात करें अन्यथा आप एक बेहतरीन इंसान से मिलने का मौका चूक जाएंगे

इस दुनिया में सभी भेद-भाव किसी स्तर के हैं, ना कि प्रकार के, क्योंकि एकता ही सभी चीजों का रहस्य है.

हम जितना ज्यादा बाहर जायें और दूसरों का भला करें, हमारा ह्रदय उतना ही शुद्ध होगा, और परमात्मा उसमे बसेंगे.

बाहरी स्वभाव केवल अंदरूनी स्वभाव का बड़ा रूप है.

KAMLESH VERMA

https://newsmug.in

Related post