कोविड 19 में बुखार आना क्या नुकसानदायक है?

0
58
covid-19-mein-bukhar-ana-kya-nukasandayak-hai
प्रतिकात्मक तस्वीर सोर्स गूगल

कोविड 19 में बुखार आना क्या नुकसानदायक है? Covid 19 mein bukhar ana kya nukasandayak hai?

Covid-19 पूरे विश्व के लिए एक नई बीमारी बनकर उभरी है. इसलिए पूरी दुनिया के चिकित्सा विशेषज्ञ इसे लेकर लगातार जानकारी और रिसर्च करने में जुटे हैं. Center For Disease Control and Prevention (CDC) की ताजा रिपोर्ट के अनुसार, यदि काेविड 19 में बुखार के दौरान किसी व्यक्ति के शरीर का तापमान 100.4 डिग्री फैरेनहाइट या 38 डिग्री सेल्सियस पहुंच जाए, साथ में खांसी और सांस लेने में भी दिक्कत हो रही हो तो इन लोगों के लिए नुकसानदायक है या नहीं इस बारे में तथ्य जुटाया जा रहा है. ऐसे में पहली सावधानी यह है कि घर से बाहर बिल्कुल नहीं निकलना चाहिए. साथ ही अन्य लोगों से करीब 6 फीट की दूरी रखनी चाहिए. होम आइसोलेशन के नियमों का पालन करना चाहिए. चलिए लेख के जरिए जानें कि कोविड 19 में बुखार आना क्या नुकसानदायक है? Covid 19 mein bukhar ana kya nukasandayak hai?

कोविड 19 में बुखार आना क्या है?

बुखार (Fever) को हाइपरथर्मिया, पाइरेक्सिया या शरीर का बढ़ा हुआ तापमान भी कहते हैं. लेकिन इन दिनों लोगों में कोविड-19 में आने वाले बुखार को लेकर असमंजस की स्थिति है. जब शरीर का तापमान सामान्य से बहुत ज्यादा गर्म हो जाता है, तो उसे बुखार कहा जाता है.अधिकतर स्थितियों में बुखार एक सामान्य स्थिति होती हैं, हालांकि, अगर शरीर का तापमान लगातार बढ़ता ही जाए, तो ऐसी स्थिति में तत्काल चिकित्सा की आवश्यकता हो सकती है. सिविल अस्पताल नागदा प्रभारी डॉ. कमल सोलंकी के अनुसार कोविड 19 में बुखार आना गहन रुप से खतरनाक नहीं है, लेकिन शरीर में ऑक्सीजन की मात्रा, रक्त संचार को काफी हद तक प्रभावित करता है.

covid-19-mein-bukhar-ana-kya-nukasandayak-hai
प्रतिकात्मक तस्वीर सोर्स गूगल

कोविड 19 में बुखार आना क्या नुकसानदायक है? Covid 19 mein bukhar ana kya nukasandayak hai?

  • सार्स कोरोना वायरस 19 में बुखार आना नुकसानदायक है क्योंकि इससे ग्रसित लोगों में बुखार, थकान और सूखी खांसी आना सबसे सामान्य लक्षण हैं. लेकिन कुछ मरीजों में नाक बहना, गले में सूजन और दर्द, नाक बंद होना या नाक के जरिए सांस लेने में परेशानी होना, शरीर में सुइयां चुभना और दर्द होना, डायरिया की समस्या होना भी शामिल हैं.
  • कोविड 19 से जुझ रहे मरीजों में 80 प्रतिशत केस माइल्ड होते हैं, जो एक रेग्युलर कोल्ड की तरह अनुभव कराते हैं और बहुत ही कम केस में रीकवर होते हैं. इनमें अक्सर इलाज की जरूरत होती है.इसलिए कोविड 19 में बुखार आना नुकसानदायक बताया गया है. हालांकि कई मामलों में देखा गया है कि यदि मरीज की इम्युनिटी मजबूत है तो मरीज को इसका पता भी नहीं चलता कि वह कोविड-19 से ग्रसित है.
  • हाल ही बात करें तो भारत में हर 6 में से 1 व्यक्ति पर कोरोना का असर बहुत गंभीर स्तर तक पहुंच जाता है. ऐसे में बुखार आना बेहद ही चिंताजनक स्थिति है. खासतौर पर उन लोगों में देखने को मिलती है, जो पहले से ही किसी गंभीर बीमारी से पीड़ित हों. जैसे, हार्ट की बीमारी, बीपी, डायबीटीज या कोई क्रानिक रेस्पेरेट्री कंडीशन जैसे अस्थमा का रोग.
  • नैशनल हेल्थ सर्विस (NHS)यूके में कोविड-19 के कुछ खास लक्षण देखे गए. कोविड 19 में बुखार आना नुकसानदायक है क्योंकि इसमें रोगी का बॉडी टेम्प्रेचर बहुत अधिक बढ़ जाता है. इतना अधिक कि यदि व्यक्ति अपने चेस्ट और पीठ पर हाथ लगाए तो उसे बहुत अधिक गर्मी का अहसास होता है.

Newsmug App: देश-दुनिया की खबरें, आपके नागदा शहर का हाल, अपडेट्स और सेहत की दुनिया की हलचल, वायरल न्यूज़ और धर्म-कर्म… पाएँ हिंदी की ताज़ा खबरें डाउनलोड करें NEWSMUG ऐप