उत्तर प्रदेश एक कपल को बरेली से लखनऊ लेकर आ रही थी, रास्ते में हुई मौत

0
182
couple-died-in-lucknow-police-custody-police-said-they-consumed-poision-before-leaving-bareilly
बाएं से दाएं: पारुल और विकास. दोनों की मौत हो चुकी है. (फोटो क्रेडिट- आशीष श्रीवास्तव)

उत्तर प्रदेश की लखनऊ पुलिस इन दिनों सवालों के घेरे में हैं. कारण एक प्रेमी जोड़े की मौत से जुड़ा हैं. हुआ यूं है कि लखनऊ पुलिस एक प्रेमी युगल को लेकर बरेली से लखनऊ आ रही थी. इसी दौरान रास्ते में दोनों की हालत खराब हो गई. कपल को ट्रॉमा सेंटर में उपचार के लिए भर्ती कराया गया, उपचार के दौरान चिकित्सकों ने दोनों को मृत घोषित किया. सुनने में आया है कि दोनों ने चुपके से ज़हर निगल लिया था.

क्या है पूरा मामला?

इंडिया टुडे से जुड़े आशीष श्रीवास्तव के अनुसार सुषमा रावत नामक महिला लखनऊ के कृष्णा नगर के एक अस्पताल में कार्यरत थी. रावत की बेटी पारुल मां का हाथ बटाने के लिए अस्पताल जाती थी.  अब हुआ यूं कि पारुल की मुलाकात विकास से हुई. पारुल और विकास में दोस्ती हुई, फिर प्यार हुआ. प्यार परवान चढ़ा और दोनों घर से भाग निकलें.

दोनों शादीशुदा थे.

रिपोर्ट के अनुसार दोनों प्रेमी जोड़े पूर्व से ही विवाहित थे. विकास की शादी दिसंबर 2018 में हुई थी. पारुल के तीन बच्चे थे. सुषमा ने विकास के खिलाफ FIR दर्ज कराई. विकास पर आरोप लगा कि विकास उनकी बेटी को ससुराल से भगा ले गया है. पूरी घटना करीब एक साल पहले यानी साल 2019 की है. मामले में पुलिस ने जांच शुरू की. लखनऊ पुलिस को सूचना मिली कि, विकास और पारुल दोनों बरेली में हैं.

इसे भी पढ़े : उत्तर प्रदेश में पुलिस की प्रताड़ना से क्षुब्ध बेटे ने की खुदकुशी

लखनऊ पुलिस की टीम विकास के कुछ रिश्तेदारों को लेकर बरेली पहुंची. सर्राफा बाज़ार में कार्यरत विकास को पुलिस ने  हिरासत में ले लिया. जिसके बाद पारुल को भी हिरासत में लिया गया. पारुल का कोर्ट में बयान दर्ज होना था, पुलिस दोनों को लखनऊ लेकर आ रही थी. रास्ते में दोनों को उल्टियां होने लगीं. हालत बुरी तरह खराब हो गई. लखनऊ के ट्रॉमा सेंटर में दोनों को मृत घोषित किया गया.

couple-died-in-lucknow-police-custody-police-said-they-consumed-poision-before-leaving-bareilly
बाएं से दाएं: पारुल और विकास. दोनों की मौत हो चुकी है. (फोटो क्रेडिट- आशीष श्रीवास्तव)

अब कस्टडी में दो लोगों की मौत को लेकर पुलिस पर सवालियां निशान लग रहे हैं. मामले में आयुक्त सुजीत पांडे ने का तर्क है कि हिरासत में लेने के बाद जब दोनों को लखनऊ लाया जा रहा था, तब विकास ने सामान पैक करने की बात कही थी. उसी दौरान दोनों ने ज़हर खा लिया.

इसे भी पढ़े : गोरखपुर में बीच सड़क पर जमकर मारपीट और शूटआउट

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here