बीजेपी विधायक कृष्णानंद राय हत्याकांड का आरोपी राकेश पांडेय कथित एनकाउंटर में ढेर हो गया

 बीजेपी विधायक कृष्णानंद राय हत्याकांड का आरोपी राकेश पांडेय कथित एनकाउंटर में ढेर हो गया

घटनास्थल पर पाई गई पिस्टल (दाएं). फोटो: Twitter

लखनऊ. यूपी पुलिस STF ने लखनऊ के सरोजनी नगर में बीजेपी विधायक कृष्णानंद राय हत्याकांड के आरोपी राकेश पांडेय उर्फ हनुमान पांडेय को कथित एनकाउंटर में मार गिराया है. पांडेय बाहुबली मुख्तार अंसारी और मुन्ना बजरंगी का करीबी और शार्प शूटर था.
रिपोर्ट के अनुसार राकेश पांडेय मऊ के कोपागंज का निवासी था.

खबरों की मानें तो मुन्ना बजरंगी की जेल में हत्या के बाद राकेश पांडेय मुख्तार अंसारी गैंग का सबसे बड़ा शूटर बन गया था. यूपी पुलिस ने राकेश पांडेय पर एक लाख रुपए का इनाम रखा था. पांडेय पर मऊ ठेकेदार अजय प्रकाश सिंह उर्फ मन्ना सिंह हत्याकांड का भी आरोप था. मृतक के खिलाफ लखनऊ, रायबरेली, गाजीपुर और मऊ में गंभीर धाराओं में 10 प्रकरण दर्ज हैं.

पुलिस का बयान -राकेश पांडेय ने फायर किया

STF एसएसपी सुधीर कुमार सिंह के अनुसार, बनारस एसटीएफ और लखनऊ एसटीएफ को जानकारी मिली थी कि, आरोपी राकेश पांडेय इनोवा कार से जा रहा है. पुलिस ने आरोपी कापीछा किया. सरोजनी नगर थाने के आगे लखनऊ-कानपुर हाईवे पर पांडेय को पुलिस ने रोकने की कोशिश की, पांडेय ने एसटीएफ पर फायर किया. जवाबी कार्रवाई में पुलिस ने आरोपी को मार गिराया. बनारस पुलिस मौके पर जांच कर रही है.

क्या है कृष्णानंद राय हत्याकांड

कृष्णानंद राय गाज़ीपुर के गोडउर गांव के रहने वाले थे. मोहम्मदाबाद विधानसभा सीट से 2002 में बीजेपी से विधायक चुने गए थे. कृष्णानंद राय करीमुद्दीनपुर इलाके के सोनाड़ी गांव में 29 नवंबर, 2005 को एक क्रिकेट मैच के उद्धाटन समारोह अतिथ रुप में पहुंचे थे.
बारिश होने के चलते राय ने बुलेट प्रूफ कार छोड़ सामान्य कार से क्रिकेट मैच का उद्घाटन करने पहुंचेङ शाम के करीब 4 बजे वो घर लौटने के दौरान बसनियां चट्टी के पास कुछ लोगों ने विधायक के काफिले को घेर लिया.

bjp-mla-krishnanand-rai-murder-case-accused-rakesh-pandey-killed-in-alleged-encounter
बीजेपी विधायक कृष्णानंद राय. फाइल फोटो.

एके 47 से फायरिंग कर राय और सात लोगों मौके पर ही मौत के घाट उतार दिया गया. हत्या के बाद राय की पत्नी अलका राय ने मऊ के विधायक मुख्तार अंसारी, भाई और सांसद अफजाल अंसारी के साथ ही कुख्यात शूटर मुन्ना बजरंगी के ख़िलाफ़ हत्या का मुकदमा दर्ज करवाया.

मृतकों के शरीर से 67 गोलियां बरामद की गई थीं. घटना का चश्मीद गवाह शशिकांत राय 2006 में संदिग्ध परिस्थितियों में मृत मिला. केस को यूपी पुलिस से सीबीआई को ट्रांसफर कर दिया. राय की पत्नी अलका राय की अपील पर 2013 में केस गाजीपुर से दिल्ली ट्रांसफर कर दिया.

सीबीआई ने इन्हें पाया था दोषी

सीबीआई द्वारा की गई जांच में गाज़ीपुर के पूर्व सांसद अफजाल अंसारी, मऊ के विधायक मुख्तार अंसारी, मुन्ना बजरंगी, अताउर रहमान उर्फ बाबू, संजीव महेश्वरी उर्फ जीवा, फिरदौस, राकेश पांडेय उर्फ हनुमान, और मुहम्मदाबाद नगर पालिका चेयरमैन एजाजुल हक को आरोपी बनाया गया था.

कोर्ट ने अफजाल अंसारी को जमानत दे दी थी.वर्तमान में मुख्तार जेल में है. वहीं आरोपी मुन्ना बजरंगी की जेल में हत्या हो चुकी है. फिरदौस मुंबई पुलिस की मुठभेड़ में मारा जा चुका है.

अताउर रहमान उर्फ बाबू खां फरार है, तलाश इंटरपोल द्वारा की जा रही है. हत्या के करीब साढ़े 13 साल के बाद सीबीआई कोर्ट ने 3 जुलाई, 2019 को फैसला दिया. सीबीआई की स्पेशल कोर्ट ने कृष्णानंद राय हत्याकांड से जुड़े आरोपियों को बरी कर दिया.

bjp-mla-krishnanand-rai-murder-case-accused-rakesh-pandey-killed-in-alleged-encounter
घटनास्थल पर पाई गई पिस्टल (दाएं). फोटो: Twitter

KAMLESH VERMA

https://newsmug.in

Related post