2 इंच बारिश, चामुंडा माता मंदिर के ओटले पर पहुंचा पानी

 2 इंच बारिश, चामुंडा माता मंदिर के ओटले पर पहुंचा पानी

photo : newsmug

nagda news. शहर में लगातार चार दिनों से पड़ रही गर्मी से रविवार रात को राहत मिली। रात 11:30 बजे तेज हवा के साथ बारिश प्रारंभ हो गई। बारिश का सिलसिला रात भर जारी रहा। इस दौरान झमाझम बारिश हुई जिससे शहर की कई सडकों पर पानी भर गया।

बारिश के दौरान बादल गरजने व बिजली चमकने से शहर के कुछ क्षेत्रों मे बिजली रही। मेहतवास ,बिरलाग्राम ,टापरी क्षेत्र ,वर्धमान कॉलोनी, मंडी क्षेत्र में सुभाष मार्ग ,दशहरा मैदान आदि रिहायशी बस्तीयों में लगभग 3 घ्ंाटे तक बिजली गुल रही।

2-inches-of-rain-water-reached-at-the-otale-of-chamunda-mata-temple
photo : newsmug

बताया जा रहा है कि इन क्षेत्रों में बारिश के दौरान हवा चलने से फाल्ट हो गया था। झमाझम बारिश से किसानों को काफी राहत मिला। । शहर में बारिश का सिलसिला रात 11:30 बजे से सुबह 5:30 बजे तक चलता रहा। इस

6 घंटे में लगभग 2 इंच बारिश हुई

कलेक्टर कार्यालय भू अभिलेख के अनुसार रात भर में नागदा  तहसील में 48 व खाचरोद तहसील में 70 मिमी बारिश हुई। इस बारिश से नागदा तहसील ने इस वर्ष अभी तक 1095 मिमी यानी लगभग 42 इंच बारिश हो चुकी है। जबकि क्षेत्र में सामान्य बारिश का आकडा 36 इंच है।

बताया जा रहा है रविवार रात को प्रदेश के विभिन्न जिलो में झमाझम बारिश हुई जिससे नागदा से गुजर रही है चंबल नदी में भी उफान आ गया।

विडियो में देखिएं इस प्रकार रौद्र रुप में बहती है माता चंबल : पुराना विडियों

चंबल नदी के कैचमेंट एरिया में लगातार बारिश होने के कारण सोमवार की सुबह लगभग सवा पांच चामुंडा माता मंदिर परिसर पानी से सराबोर हो गया। सुरक्षा की दृष्टि से छोटी पुलिया से मंदिर में जाने वाले सभी रास्तो को अस्थायी रुप से बंद कर दिया गया।

नवरात्रि के तीसरे दिन चंबल मैया ने चामुंडा माता का जलाभिषेक किया। जिससे श्रद्धालुओं को छोटी पुलिया से खड़े होकर दर्शन लाभ लेना पड़े।

श्रद्धालुओं की भीड़ को देखते हुए टीआई श्यामचंद्र शर्मा ने पुलिस जवान तैनात किए। दोपहर में जल स्तर बढने से शाम को सीएसपी मनोज रत्नाकर ने सुरक्षा व्यवस्था का जायजा लिया।

जल स्तर को बढते देख सीएसपी ने शाम को पुलिया पर वाहनों की आवाजाही पर बेरिकेट्स लगाकर प्रतिबंध लगा दिया। साथ ही पुलिया पर दुकान लगाने वाले व्यापारियों को हिदायत भी दी गई कि वह रात में सब सामान घर ले जाए।

चुंकि पानी कभी भी बढ सकता है। गौरतलब है शरादीय नवरात्रि में एक भी दिन माता रानी के दर्शन नहीं हो पाए थे बारिश अधिक होने से 9 दिनों तक मातारानी  जलमग्न रही थी।

इसे भी पढ़े : प्रतिमा विसर्जन को लेकर एसडीएम आशुतोष गोस्वामी ने चंबल तट का निरीक्षण किया

KAMLESH VERMA

https://newsmug.in

Related post