12 माह के विलंब से शुरु हुआ पुलिया का कार्य फिर रुका

0
12

12 माह के विलंब से शुरु हुआ पुलिया का कार्य फिर रुका | The culvert work started after a delay of 12 months |  नपा अधिकारियों की लापरवाही से जनता हो रही है परेशान

नागदा। टेंडर जारी होने के एक वर्ष बाद प्रशासन के आला अधिकारियों की फटकार के बाद शुरु हुआ पुलिया का कार्य फिर रुक गया। नपा अधिकारियों की लापरवाही से लगभग 15 दिन से कार्य रुका हुआ पड़ा है। नपा ने अभी तक पुलिया पर से चेतनपुरा की पेयजल पाइप लाईन नहीं हटाई। जिस कारण ठेकेदार द्वारा कार्य रोक दिया गया।

जबकि पुलिया का टेंडर विधानसभा चुनाव के पूर्व यानि 15 माह पूर्व हो गया था। लेकिन निर्माण कार्य अक्टूबर माह में प्रारंभ हुआ। पुलिया का कार्य अधूरा होने से प्रतिदिन राहगिरों को परेशान होना पड़ रहा है। चूंकि निर्माण के चलते पुलिया को तोड़ कर अस्थाई रुप से मिट्टी का रास्ता बनाया गया है।

जिस पर से प्रतिदिन कई भारी वाहन निकल रहे है। इन वाहनों में कृषि उपज मंडी में आने वाले टैक्टर व ट्रक भी शामिल है। ऐसे यह रास्ता भी क्षतिग्रस्त होने लगा है। गौरतलब है कि इस पुलिया के बाद दो अन्य पुलिया का निर्माण होना है। ऐसे में अभी तक एक पुलिया का कार्य पूर्ण नहीं हुआ।

#क्या है मामला

शहर के मध्य से गुजरे रहे नाले पर नपा द्वारा तीन पुलिया का निर्माण किया जाएगा। यह पुलिया दशहरा मैदान, कृषि उपज मंडी के पीछे व जूना नागदा मार्ग पर ईदगाह के पीछे प्रस्तावित है। वर्तमान में यह तीनों पुलिया बारिश में काफी क्षतिग्रस्त हो गईथी।

साथ ही पुलिया छोटी होने से बारिश में जल मग्र हो जाती है, जिससे चेतनपुरा, जूना नागदा जाने वाले लोगों को परेशान होना पड़ता है। इन तीनों की लागत लगभग 36 लाख रु है। दशहरा मैदान वाली पुलिया का निर्माण 13 लाख 71 हजार रु कि लागत से होगा। इसी प्रकार मंडी के पीछे की पुलिया 9 लाख 40 हजार तथा जूना नागदा की पुलिया 13 लाख 76 हजार से बनेगी।

#फटकार के बाद प्रारंभ हुआ था कार्य

नपा के तीनो पुलिया बनाने का प्रस्ताव वर्ष 2018 में पारित किया था। विधानसभा चुनाव के पूर्व सितंबर में टेंडर जारी कर वर्क आर्डर भी दे दिए गए थे। टेंडर नागदा के ठेकेदार उमेश श्रीवास्तव कंस्ट्रेक्शन कंपनी का हुआ था। लेकिन ठेकेदार द्वारा 10 माह बाद भी निर्माण प्रारंभ नहीं किया गया था। जिसके बाद नपा सीएमओ ने ठेकेदार को नोटिस जारी करते हुए ठेका निरस्त करने की चेतावनी दी थी।

उस समय ठेकेदार ने यह दलील दी थी कि बारिश के चलते कार्य प्रभावित होगा। लेकिन सितंबर माह में भारी बारिश के चलते चेतनपुरा की पुलिया जल मग्र हो गई थी। लगभग दो दिन तक पुलिया के उपर से पानी बहता रहा था। पानी जब उतरा तो पुलिया का एक हिस्सा क्षतिग्रस्त हो गया था।

उसके बाद एसडीएम आरपी वर्मा तथा नपा सीएमओ ने आनन-फानन में 25 सितंबर को पुलिया का निरीक्षण कर ठेकेदार को पुलिया बनाने का आदेश दिया था। ठेकेदार ने 13 अक्टूबर से पुलिया का कार्य प्रारंभ किया। लेकिन लगभग 7 दिन के बाद कार्य पुन: बंद हो गया।

#प्रतिदिन निकलते है सैकड़ों वाहन

दशहर मैदान वाली पुलिया से प्रतिदिन सैकड़ों वाहन निकलते है। यह मार्ग शहर के मुख्य बाजार को स्टेट हाईवे से जोड़ता है। साथ ही कृषि उपज मंडी भी दशहर मैदान के समीप होने से किसान भी इसी पुलिया से आना-जाने करते है। मंडी के अनाज लेकर वेयर हाउस तक जाने के लिए भी इसी पुलिया का उपयोग होता है। ऐेस में पुलिया के क्षतिग्रस्त होने से यह वाहन शहर के मुख्य मार्ग से जाते है। जिससे बाजार में जाम लगता है।

इनका कहना
पुरानी पुलिया पर से चेतनपुरा की पेयजल पाइप लाईन गुजर रही थी। जिसे हटाने के लिए पुलिया का निर्माण कार्य रोका गया है। एक दो दिन में कार्य प्रारंभ हो जाएगा।
शाहिद मिर्जा
उपयंत्री, नपा नागदा

The culvert work started after a delay of 12 months.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here