Education

तान्हाजी: मूवी रिव्यू tanhaji movie review in hindi 

tanhaji-movie-review-in-hindi-ajay-devgn-saif-ali-khan-kajol-sharad

तान्हाजी: मूवी रिव्यू tanhaji movie review in hindi 

तू क्या मिटाएगा उस भगवे को, जिसका एलान खुद आसमान करता है. दिन में दो बार. सूरज उगने से पहले और सूरज ढलने के बाद.

उक्त डायलॉग को लिखते और एक्ट करते वक्त तान्हाजी फिल्म बनाने वाले डायरेक्टर ने सोचा होगा कि, मूवी थियेटर तालियों की गडग़ड़ाहट और सीटियों से गूंज उठेगा. डायलॉग यहीं फेल हो गया है. फिल्म फिल्मी दर्शकों की नब्ज़ को पकडऩे की पूरजोर कोशिश करती है. लेकिन सफल नहीं हो पाती. तामाम प्रयासों के बीच सब कुछ मशीनी हो जाता है.

तान्हाजी फिल्म की कहानी में युद्ध और उससे जुड़ी तैयारियों को दर्शाया गया है. ऐसा युद्ध जो जो 04 फरवरी, 1670 को लड़ा गया था. दरअसल शिवाजी महाराज के दाहिने हाथ ‘तान्हाजी’ और आलमगीर (औरंगज़ेब) के दाहिने हाथ उदयभान बीच हुए युद्ध का चित्रण किया गया है. उक्त युद्ध मराठा, कोंढाणा के स्वराज के लिए लड़ा गया था.

मूवी का सबसे मजबूत बात इसका थ्री डी फॉर्मेट. भारतीय फिल्मों में बहुत कम ही 3 डी फॉर्मेट देखने को मिलता है. ‘तान्हाजी’ मूवी में बहुत ही अच्छे थ्री डी फॉर्मेट का उपयोग किया गया है. ‘तान्हाजी’ मूवी की दूसरी सबसे अच्छी बात इसका वीएफएक्स और स्पेशल इफेक्ट्स हैं. यह पिचर को काफी इंटेंस बनाते हैं. खास तौर पर लड़ाई और एक्शन वाले दृश्यों को.

‘तान्हाजी’ मूवी की तीसरी सबसे अच्छी बात है लीड एक्टर्स द्वारा किए गए कार्य. स्पेशली, सैफ को उदयभान के किरदार में देखकर दर्शक काफी प्रभावित होंगे.‘तान्हाजी’ में अभिनेता अजय देवगन की भी इंटेसिटी पर्दे पर दिखती है. काजोल का किरदार बहुत कम ही है. काजोल ने सारे इमोशनल रोल प्ले किए हैं.

tanhaji-movie-review-in-hindi-ajay-devgn-saif-ali-khan-kajol-sharad
तान्हाजी की कुछ अच्छी बातों में लीड एक्टर्स का काम भी है.

Comment here