Education

मध्य प्रदेश का मंदसौर है रावण का ससुराल

Ravana's in-law is the Mandsaur of Madhya Pradesh

मध्य प्रदेश का मंदसौर है रावण का ससुराल | Ravana’s in-law is the Mandsaur of Madhya Pradesh

मालवी लोक संस्कृति को समेट हुए मध्य प्रदेश के मंदसौर रावण का ससुराल है. पुराणों में उल्लेख मिलता है, कि मंदसौर का पूर्व में दशपुर नाम था. समय के साथ परिवर्तन होकर मंदौदरी के नाम पर मंदसौर नाम से जानें जाना लगा.

रोचक बात यह है कि, मंदसौर में लंकापति रावण की प्राचीन प्रतिमा स्थिति है. प्रतिमा के समक्ष से गुजरने वाली महिलाएं परंपरा अनुसार सिर पर घुंघट डाल लेती है. वहीं देश में दशहरा पर्व के दिन सभी रावण का दहन करते हैं, लेकिन मंदसौर में रावण की पूजा की जाती है.

पूजन नामदेव समाज द्वारा की जाती है, धार्मिक मान्यता है कि, रावण का पूजन करने से उनके समाज में किसी प्रकार की कुरितिया और बीमारी नहीं आती हैं.प्राचीन साहित्य और कई अभिलेखों में दशपुर का उल्लेख पढऩे को मिलता है. मंदसौर के खानपुरा में रावण की प्रतिमा स्थापित हैं.

यहां के लोग रावण को मंदसौर का जमाई मानते हैं. अन्य मान्यताओं की मानें तो रावण का ससुराल जोधपुर के पास मंडोर को भी माना जाता है. दशहरा पर्व के दिन मंदसौर में सुबह पूजा के बाद शाम को रावण का प्रतीकात्मक वध किया जाता हैं. प्राकृतिक आपदाओं के कारण रावण की प्राचीन प्रतिमा जर्जर हो गई थी, जिसे 2003 में स्थानीय प्रशासन ने दोबारा बनवाया.

Ravana's in-law is the Mandsaur of Madhya Pradesh

Comment here