Latest News in Hindi Indore

श्रमिक ट्रेन में गुजरात से उप्र जा रहे लोगों को नहीं मिला भोजन

people-not-going-from-gujarat-to-up-in-labor-train-did-not-get-food

नागदा प्लेटफार्म पर 1600 यात्रियों नहीं मिल सका खाना

नागदा। lockdown 3.0 के चलते Gujarat के विभिन्न शहरों में फंसे laborers को लेकर UP जा रही ट्रेन में श्रमिकों को परेशान होना पड़ा। नागदा में इन स्थानीय railway सुरक्षा बलों व अधिकारियों की लापरवाही के चलते लगभग 1600 श्रमिकों को भेाजन व पीने का पानी नहीं मिला।

शनिवार रात को दो ट्रेन गुजरात से नागदा पहुंची थी। इन दोनों ट्रेन में लगभग 2800 यात्री सवार थे। इन में से महज 1200 को ही भोजन मिल सका। जबकि रेलवे के वरिष्ठों का आदेश था कि नागदा में इन यात्रियों को भोजन पैकेट व पीने का पानी उपलब्ध कराया जाए।

लेकिन food नहीं मिलने से श्रमिकों को भूखे ही जाना पड़ा। इन यात्रियों को भोजन पैकेट एवं पानी की नि:शुल्क व्यवस्था railway द्वारा IRTC या अन्य एंजेंसी के माध्यम से कराई जा रही है।

मिली जानकारी के अनुसान शनिवार रात को Gujarat के सूरत से एक ट्रेन क्रमांक 9576 प्लेटफार्म नंबर एक पर पहुंची। यात्रियों के लिए लगभग 1400 भोजन पैकेट और 1400 बॉटल पानी की व्यवस्था करवाने के लिए दोपहर एक बजे दे दी गई थी, लेकिन शाम साढ़े सात बजे तक मात्र 1200 भोजन पैकेट उपलब्ध करा सके, जिससे ट्रेन में सवार लगभग 200 यात्रियों को बिना भोजन पैकेट के रवाना होना पड़ा।

यात्रियों का स्वास्थ्य परीक्षण किया गया

ट्रेन में यात्रा करने के लिए पूर्व सभी यात्रियों का स्वास्थ्य परीक्षण किया गया, लेकिन नागदा प्लेटफार्म पर जिस एजेंसी के माध्यम से भोजन पैकेट उपलब्ध कराए गए उनके कर्मचारियों के स्वास्थ्य परीक्षण कि ओर ध्यान नहीं दिया गया।

वहीं भोजन की गुणवत्ता कि ओर किसी ने ध्यान नहीं दिया, रात के अंधेरे में आधा किलो के पैकेट में जो भोजन उपलब्ध करा दिया, यात्री वहीं भोजन पैकेट लेकर रवाना हो गए। प्रबंधन के कारण जिन यात्रियों को भोजन पैकेट नहीं मिल वह निराश हो गए।

1400 यात्रियों को भोजन पैकेट नहीं मिले

मामले में सबसे अचंभित करने वाली बात यह है कि लगभग 40 मिनट बाद ट्रेन क्रमांक 9573 प्लेटफार्म नंबर 02 पर पहुंची, इसमें सवार 1400 यात्रियों को बिना भोजन पैकेट के रवाना कर दिया।

यात्रियों को सिर्फ पानी की बॉटल मिली। ट्रेन में सुरत से लखनऊ के लिए सफर कर रही आशा ने बताया कि सुरत में बिस्किट पानी देकर बैठाया था उसके बाद नागदा में भोजन पैकेट की बात कहीं थी, लेकिन यहां पर सिर्फ पानी की बॉटल मिली है।

सूरत से जौनपूर के लिए सफर रही प्रीति ने बताया कि सुरज से नागदा तक आ गए यहां पर सिर्फ पानी की बॉटल मिली। सूरत से गोरखपुर के लिए यात्रा कर रहे अजीतकुमार ने बताया कि घर लौट रहे है खुशी है, लेकिन भूख के मारे हालत खराब है। नागदा में भोजन पैकेट मिलने की बात कहीं थी, लेकिन नहीं मिला।

people-not-going-from-gujarat-to-up-in-labor-train-did-not-get-food

Comment here