Crime News

अब जेल से कैदी नहीं हो सकेंगे फरार, ब्राउंड्री वाल की ऊंचाई बढ़ेगी

नागदा. मध्य प्रदेश के नीमच जिले की कनावटी जेल से बीते जून में चार कैदियों के भागे जाने की घटना के बाद खाचरौद जेल प्रशासन चौंकन्ना हो गया है. प्रशासन ने जेल के चारों ओर मौजूद ब्राउंड्री वाल ऊंचाई बढ़ाने का प्रस्ताव मध्य प्रदेश शासन व जेल विभाग के समक्ष भेजा हैं.

इतना ही नहीं जेल प्रशासन संदिग्ध कैदियों के पूरी जानकारी भी मुख्यालय को भेजेगा. नीमच में कैदियों के फरार होने की घटना के बाद से खाचरौद उपजेल प्रबंधन ने रात्रि गश्त भी बढ़ा दी है.

इन दिनों जेल की बाउंड्री वाल के बाहर 3 समय गश्त की जा रही है, वहीं पूर्व में एक बार ही गश्त की जाती थी. कैदियों पर कड़ी निगरानी रखने के उद्देश्य से प्रशासन ने बंदी से परिजनों की मुलाकात को लेकर नए नियम जारी किए हैं.

जिसके अनुसार बता दें कि एक दशक पूर्व उपजेल खाचरौद से भी एक कैदी फरार हो गया था, हालांकि बाद में उसे पुलिस की सहायता से गिरफ्तार कर लिया गया था.

जेल प्रशासन द्वारा लागू किए गए नए नियमों के अनुसार कैदियों से मिलने आने वाले परिजन उन्हें किसी प्रकार का कोई बाहरी सामान नहीं दे सकते.

पूर्व में कैदियों से मुलाकात के लिए परिजनों को कैदी के व्यवहार के अनुसार कुछ अधिक समय दे दिया जाता था, लेकिन अब ऐसा नहीं होगा. जेल प्रबंधन द्वारा भेजे गए प्रस्ताव के अनुसार जेल की दीवार की ऊंचाई बढ़ाए जाने की मांग की गई है.

दीवार को 5 फीट और ऊंचा बढ़ाए जाने की मांग की गई है. वर्तमान दीवार की ऊंचाई 16 फीट है. सुरक्षा व्यवस्था को लेकर जेल के बाहरी व अंदरुनी परिसर में सीसीटीवी कैमरे स्थापित किए गए है. बाता दें कि उपजेल खाचरौद का दो एकड़ में विस्तार हैं.

फिलहाल खाचरौद उपजेल में 119 कैदी सजा काट रहे हैं. वहीं जेल की क्षमता की बात करें तो 130 कैदी बंधीगृह में रह सकते हैं. महज 6 कैदी ऐसे है जिनकी सजा पूरी होने की कगार पर है. अन्य कैदियों की सजा विचारधीन है.

खाचरौद उप-जेल में 5 थाने जिसमें नागदा मंडी, बिरलाग्राम, खाचरौद, उन्हेल व भाटपचलाना के कैदियों को रखा जाता है. सहायक जेल अधिक्षक उप जेल खाचरौद के देवंद्रसिंह चंद्रावत का तर्क है कि, नीमच जेल की घटना के बाद सुरक्षा व्यवस्था को देखते हुए रात्रि गश्त तीन राउंड कर दी गई है. दीवार कि ऊंचाई 5 फीट बढ़ाने के लिए शासन को प्रस्ताव भेजा गया हैं.

Comment here