General

मध्य प्रदेश : हल्दी लगाकर बैठे दूल्हे की धारदार हथियार से हत्या कर शव खेत में फेंका

मध्य प्रदेश : हल्दी लगाकर बैठे दूल्हे की धारदार हथियार से हत्या कर शव खेत में फेंका Madhya Pradesh : After killing the groom sitting with turmeric with a sharp weapon and throwing the dead body in the field

नागदा। शहर से लगभग 20 किमी दूर गांव हिड़ी में एक युवती को बार-बार परेशान करने व उस पर प्यार करने के लिए जबरन दबाव तथा उसके बुरी नजर से देखने एक युवक को बुधवार रात 11 बजे युवती के नाबालिक भाई ने मौत के घाट उतार दिया। आरोपी ने मृतक शहजाद पिता सत्तार मंसूरी उम्र 22 वर्ष पर धार-धार हथियार से हमला कर शव मृतक के खेत में फेंक कर फरार हो गए।

मृतक शहजाद को  चार बाद निकाह था, 9 फरवरी को उसकी बारात रतलाम जिले में जाने वाली थी। जिसको लेकर उसके घर में तैयारी चल रही थी। दूल्हे को भी 2 बार हल्दी लग गई थी। घटना से गांव में सनसनी फैल गई।

इधर घटना की सूचना मिलते ही मंडी पुलिस तुरंत मौके पर पहुंची और शव को नागदा लेकर आई। मामला वर्ग विशेष का होने से गांव में रात को ही आसपास के थाने उन्हेल, बिरलाग्राम, खाचरौद, महिदपुर व इंगोरिया से पुलिस बल तैनात कर दिया गया।

इधर आरोपियों की गिरफ्तार के लिए पुलिस ने रात को ही एक टीम का गठन किया, जिसमें तीन थाने के पुलिस अधिकारी को शामिल किया गया। एएसपी आकाश भूरिया ने मंडी पुलिस थाने में प्रेस वार्ता आयोजित कर घटनाक्रम का खुलासा किया। मृतक कि शव यात्रा के दौरान गांव में भारी संख्या में पुलिस बल तैनात रहा।

क्या है घटनाक्रम

पुलिस के मुताबिक गांव में निवास करने वाले शहजाद उसके ही घर के सामने रहने वाली एक युवती से एक तरफा प्रेम करता था। गत एक वर्ष से शहजाद युवती को परेशान कर रहा था, कई बार शहजाद ने युवती के समक्ष अपने प्यार का इजाहर भी किया, लेकिन युवती ने मना कर दिया।

यह बात जब युवती के परिजनों को पता चली तो उन्होने भी शहजार को समझाया, लेकिन शहजाद नहीं माना। जिससे परेशान होकर युवती के नाबालिक भाई ने अपने तीन चचरे भाईयों के साथ मिलकर घटना को अंजाम दिया।

कैसे दिया घटना को अंजाम

गांव में ही एक स्थान पर विवाह समारोह चल रहा था। जहां पर डीजे बज रहे थे। युवती के नाबालिक भाई व उसके चचरे भाई संदीप पिता मोहनलाल ग्यारी ने डीजे कि साउड का लाभ उठाकर शहजाद को रात 10:30 बजे फोन कर उसके घर के पीछे शहजाद के खेत पर ही उसे बुलाया। आरोपियों ने कहा कि शहजाद एक मोबाइल का पैटर्न लॉक खोलना है।

फोन पर चर्चा के बाद शहजाद खेत पर चल संदीप व उसके भाई से मिलने चला गया। इसी दौरान हथियार लेकर बैठे संदीप व उसके भाई ने शहजाद पर हमला कर दिया। जिससे मौके पर भी शहजाद की मौत हो गई। आरोपियों ने शहजाद को मौत के घाट उतारने के बाद उसकी जेब में से मोबाईल व पर्स भी ले गए।

आरोपियों ने हमला लोहे के बक्के व चाकू से हमला किया। घटना के बाद आरोपियों ने हथियार समीप में रमेश माली के खेत में कुंए के समीप गाढ़ दिए थे। जबकि मृतक का पर्स फेंक दिया और उसका मोबाईल गांव के तालाब में फेंक दिया।

कैसे हुआ खुलासा

दोनो आरोपी जब हत्या कर शहजाद के खेत से निकल रहे थे उसी दौरान घर के पीछे सिगरेट पीने आए शहजाद के चचरे भाई आसीफ ने खेत में से दोनों युवक को जाते देखा तो वह समझा कि कोई मोटर चोरी करने आया है, चोर समझ कर आसीफ उनके पास पहुंच गया और कारण पूछने लगा, इस बात पर दोनों आरोपी ने आसीफ पर लठ से वार भी किया।

इधर आसीफ ने अपने परिजनों को मौके पर बुला लिया, लेकिन दो पक्ष एक ही गांव व आमने-सामने रहने के कारण आसीफ के परिवार के वरिष्टनों ने दोनों को छोड़ दिया। इस वक्त तक को यह नहीं पता था कि दोनों युवक शहजाद की हत्या कर भाग रहे है। आसीफ जब घर पर आया तो उसने शहजाद के भाई शरीफ उर्फ भूरा को कहा कि जा खेत पर जाकर देख मोटर व केबल तो कही चोरी नहीं हो गए।

शरीफ टॉर्ज लेकर खेत पर पहुंचा तो उसने वहां पर उसके भाई शहजाद की चेप्पल देखी और आगे जाकर देखा तो उसका भाई मृत अवस्था में लहूलुहान पड़ा हुआ था। शरीफ ने भाई को इस हालात में देख शोर मचाया और डायल 100 पर सूचना दी। जिसके कुछ ही देर बात पुलिस मौके पर पहुंच गई।

अपने भाईयों के साथ हुए फरार

घटना को अंजाम देने के बाद संदीप ने अपने भाई दिनेश को फोन कर कहा कि हमने शहजाद को खत्म कर दिया है। हमे हमारे कपड़े बदलना है। इस पर दिनेश दोनों भाई के कपड़े लेकर गांव के बाहर पहुंचा और दोनों कपड़े देकर उन को मोटरसायक से महिदपुर तहसील के गांव नारायण में अपने रिश्तेदार के यहां पर छोड़कर आ गया। यहां से संदीप ने अपने एक अन्य नाबालिक भाई को उसके गांव बानंका थाना महिदपुर से बुलाया और उसकी कार में सवार होकर उसके घर पहुंच गए।

पुलिस कैसे पहुंची आरोपियों तक

घटना की सूचना मिलते ही पुलिस गांव में पहुंची और संदीप की तलाश शुरु की। पुलिस को संदीप के गांव बानंका में होने की सूचना मिली। बताया जा रहा है कि पुलिस ने संदीप के परिजनों को रात को ही थाने पर लेकर आ गई थी और उनसे सक्ती से पुछताछ की।

madhya-pradesh-after-killing-the-groom-sitting-with-turmeric-with-a-sharp-weapon-and-throwing-the-dead-body-in-the-field

09 को खुद की बारात व 11 को बहन की बारात आने वाली थी

मृतक शहजाद का 9 फरवरी को निकाह होने वाला था। उसकी बारात रतलाम जिले गांव पंचेड़ थाना नामली जाने वाली थी। जबकि शहजार की बहन अफसाना का भी निकाह था। अफसाना कि बारात जावरा के समीप से आने वाली थी। शहजाद ट्रक डायवर था। वह अक्सर गांव से बाहर रहता था। जबकि मृतक के पिता सत्तार गुना जिले में एक वेयर हाउस पर हम्माली करते है। जबकि आरोपी संदिप शिक्षित है। उसके पिता शासकीय स्कूल में शिक्षक है।

इन पुलिसकर्मी की रही भूमिका

घटना कि सूचना मंडी थाना प्रभारी श्यामचंद शर्मा को जिस समय मिली उस समय टीआई टीम के साथ कंजरों की तलाश में जा रहे थे। लेकिन हत्या की सूचना मिलते ही थाना प्रभारी टीम के साथ गांव पहुंच गए। इधर टीआई ने पुलिस के वरिष्ट अधिकारियों को घटना से अवगत कराया।

जिसके बाद एसपी सचिन अतुलकर ने एएसपी आकाश भूरिया के नेत्तृव में एक टीम का गठन किया। जिसमें सीएसपी मनोज रत्नकार, मंडी थाना प्रभारी शर्मा, बिरलाग्राम थाना प्रभारी सुरेश सोलंकी, इंगोरिया थाना प्रभारी रविंद्र बाबरिया, एसआई जीवन भिडोरे, मजाराजसिंह बघेल, हरिज्ञानसिंह, आरक्षक विनोद माली, नीरज पटेल, सुखेदव, यशपालसिंह सिसौदिया, गोपाल चावला, ईश्वर, सुनील बैस, दिनेश गुर्जर, प्रवीण कुशवाह, जितेंद्र चौहान, जितेंद्र राठौर, शमिष्ठा शुक्ला को शामिल किया गया।

Comment here