Corona virus

lockdown 4.0 : कोरोना मरीज बढ़ने से मचा हड़कंप, 90 गांव सील

lockdown-4-0-corona-patient-raging-90-village-sealed

उज्जैन. प्रदेश के उज्जैन जिले में लगातार कोरोना मरीजों की संख्या में इजाफा हो रहा है. शनिवार को दो दर्जन पॉजीटिव मरीजों के मिलने से जिले के आला अफसरों में हड़कंप मच गया. परेशानी वाली बात यह है कि, lockdown 4.0 के शुरू होने से पूर्व ही उज्जैन जिले को मिलने वाली छूट छीन गई है.

एतिहात के तौर पर जिले की नागदा तहसील समेत 90 गांवों को सील कर दिया गया है. इस दौरान राजस्थान से मप्र में प्रवेश करने वाले लोगों से प्रशासन सख्ती से पूछताछ करने के बाद उन्हें प्रवेश दिया जाएगा. उचित कारण बताने वाले व्यक्तिओं को ही प्रवेश दिया जागए.

प्रशासन ने सख्ती के तौर पर 90 गांवों की सीमा सील कर दी है. जिसमें रतलाम, इंदौर, देवास, शाजापुर, आगर, धार व राजस्थान के झालावड़ जिले की सीमा से सटे गांव शामिल हैं.

सील किए सीमाओं में नागदा-खाचरौद के 20 गांव हैं. सुरक्षा के तौर पर तीन विभाग के पांच कर्मचारियों की तैनाती की गई है. मॉनिटरिंग पुलिस के साथ-साथ नगर सुरक्षा समिति सदस्य भी करेंगे.

उज्जैन जिला प्रशासन ने गांव मोकड़ी, चापानेर, सकतखेड़ी, चापाखेड़ा, नारेली, रामनगर, मीण, लोचीतारा, ब्राहम्ण खेडी, गोदडा माताजी, पाडलिया खुर्द, जलोद, रिगनिया, रुनेखड़ा, उचाहेड़ा, कनवास, खेडावदा, कमठाना, बंडागंाव की सीमा को सील किया है.

अफसरों की तैनाती में राजस्व, जनपद व शिक्षा विभाग को शामिल किया गया है.
खाचरौद जनपद सीईओ प्रदीप पाल का तर्क है कि, उज्जैन कलेक्टर आशीषसिंह द्वारा जिले के 90 गांव की सीमा सील है.

1. आवेदन पत्र क्या होते हैं उदाहरण सहित।

2.कोरोना संकट में राशन नहीं मिलने पर आवेदन पत्र।

lockdown-4-0-corona-patient-raging-90-village-sealed

Comment here