Education

दैनिक भास्कर के संपादक को महामारी से संबंधि सरकारी गाईड लाईन प्रकाशित करने हेतु पत्र

letter-to-the-editor-of-dainik-bhaskar-to-publish-a-government-guide-line-related-to-the-epidemic

दैनिक भास्कर के संपादक को महामारी से संबंधि सरकारी गाईड लाईन प्रकाशित करने हेतु पत्र | Letter to the editor of Dainik Bhaskar to publish a government guide line related to the epidemic

दोस्तों देश कोरोना संक्रमण की चपेट में हैं. सभी वर्ग के लोग भयभीत है. ऐसे में हम दैनिक भास्कर समाचार पत्र के संपादक को देश में फैल रही कोरोना महामारी से संबंधि सरकारी गाईड लाईन प्रकाशित करने हेतु औपचारिक पत्र लिख सकते है.

लेख के माध्यम से हम आपकों समाचार पत्रों के संपादक, रिजनल एडिटर, एडिटर इन चीफ को लिखे जाने वाले पत्र का उदाहरण लाए है. जिसका उपयोग कर देश के किसी भी प्रांत में स्थित ब्यूरो और रिजनल ऑफिस के संपादक के नाम लिख सकते है.

खास बात यह है कि, इसी पत्र का उपयोग कर आप अपने क्षेत्र की समस्या या कोई समाचार का कंटेट लिखकर उसे प्रकाशित करने का अनुरोध कर सकते है.

प्रेस नोट लिखे जाने का मानक भी उदाहरण में दर्शाए गए पत्र के अनुसार ही होता है. प्रकाशित किए जाने वाले प्रेस नोट में आपकों विस्तृत जानकारी देनी होती है, वहीं पत्र सरल और कम शब्दों में लिखा जाता है.

पत्र मूल रुप से तीन प्रकार के होते है. जैसे- औपचारिक, अनऔपचारिक, जनसाधरण के लिए.

इसे भी पढ़े :
1. आवेदन पत्र क्या होते हैं उदाहरण सहित। पत्र लेख के मानक. विभिन्न प्रकार के पत्रों के उदाहरण सहित.

Letter to the editor of Dainik Bhaskar

दिनांक-xx-xx-xxx

श्रीमान संपादक महोदय
दैनिक भास्कर कार्यालय
डीबी मॉल, भोपाल मध्य प्रदेश

विषय :

महोदय,
देश लॉकडाउन में है. महामारी से सभी वर्ग के लोग भयभीत है. फेक न्यूज और पोस्टरों का प्रचलन सोशल मीडिया पर बढ़ गया है. जिससे नकारात्मकता फैल रही है. अनुरोध है कि, देश में फैल रही कोरोना महामारी से संबंधि सरकारी गाईड लाईन प्रकाशित की जाए.
प्रकाशन करवाए जाने का उद्देश्य फेक न्यूज और जानकारियों पर लगाम लगाया जाना है. प्रकाशन के संबंध में निर्देशित करें.

धन्यवाद
स्वयं का नाम लिखें
स्थाई पता
दिनांक-xx-xx-xxx

इसे भी पढ़े :
2. कोरोना संकट में राशन नहीं मिलने पर आवेदन पत्र।

letter-to-the-editor-of-dainik-bhaskar-to-publish-a-government-guide-line-related-to-the-epidemic
Letter to the editor of Dainik Bhaskar.

Comment here