उघोग के प्रदूषण की जांच करने नागदा पहुंचा संभागीय दल

0
21

उघोग के प्रदूषण की जांच करने नागदा पहुंचा संभागीय दल | Divisional team reached Nagda to check the pollution of industry

नागदा। औद्योगिक क्षेत्र की बस्ति दुर्गापुरा, मेहतवास क्षेत्र में फैल रहे प्रदूषण को लेकर रहवासियों द्वारा आए दिन प्रदूषण विभाग को शिकायक कि जा रही हे। जिसकी जांच के लिए मंगलवार शाम को संभागीय मुख्यालय से प्रदूषण विभाग का एक जांच दल नागदा पहुंचा।

टीम ने दोनों क्षेत्र दुर्गापुरा व मेहतवास में पहुंचकर लोगों की समस्या सुनी और तीन स्थानों से पानी के सेंपल भी लिए। जांच दल में प्रदूषण विभाग के आरओ एसएन द्विवेदी, सीसी डीवीएस जादव शामिल थे। टीम शाम 4 बजे नागदा पहुंची। अब जांच टीम लिए गए सेंपल की जांच कराकर आगे की कार्रवाई करेगी। शिकायत मेहवतास के निवासी राकेश शर्मा व दुर्गापुरा निवासी राजा यादव द्वारा अलग-अलग कि गई थी।

#क्या थी शिकायत

शिकायत में बताया गया था कि शहर के स्थित उद्योगों द्वारा छोड़े जाने वाले रसायन युक्त पानी से क्षेत्र के लोग बीमार हो रहे हैं। क्षेत्र के लोग नेत्र दोष व श्वास की परेशानियों से जूझ रहे हैं। लैक्सेंस उघोग में उपयोग होने वाले बायोमास भारी वाहनों से शहर लाया जाता है। बायोमास के सड़क पर गिरने से तीव्र गंधी उत्पन्न होती है।

ऐसे में रहवासियों को श्वास लेने में काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। सबसे अधिक परेशानी बारिश और सर्द मौसम में होती है।रहवासियों ने लैंक्सेस उद्योग को शहर से लगभग 25 किमी दूर स्थित स्थापित करने की मांग की।

#तीन स्थानों से लिए सेंपल

जांच टीम ने शिकायतकर्ताओं की शिकायक सुनने के बाद तीन अलग-अलग स्थानों से पानी के सेंपल लिए। टीम ने लैक्सेंस उघोग के गेट के बाहर से नाले, दुर्गापूरा व मेहतवास में स्थित कुंए से पानी का सेंपल लिया। शिकायकर्ताओं का कहना था कि उघोग द्वारा छोड़ा जाने वाला रसायन जमीन में रिसता हुआ जल स्त्रोत में मिल रहा है। अधिकारियों का तर्क है कि, शिकायत के बाद स्थानीय एसडीएम के निर्देशन में जांच की जा रही हैं। एक रिपोर्ट बनाकर एसडीएम नागदा को सौंपी जाएगी।

#विभाग के अंतर्गत आने वाले कार्यों को देखेंगे

मौके पर पहुंचे अधिकारियों को क्षेत्र के युवाओं ने चर्म रोग, श्वास लेने में तकलीफ व आंखों की परेशानी जैसी बीमारियों के बारे में बताया। अधिकारियों ने लोगों की परेशानी सुन प्रदूषण विभाग के सीमा क्षेत्र में आने वाले कार्यों का हवाला देते हुए बीमारियों के संबंध में जांच किए जाने की मामला स्वास्थ्य विभाग के जिम्मे डाल दिया। लोगों की मांग के आधार पर क्षेत्र में एक स्वास्थ्य शिविर लगवाएं जाने की बात प्रदूषण विभाग के अफसरों ने उपस्थितों को संतुष्ट करते हुए कही।

इनका कहना-
लैक्सेसं उघोग द्वारा क्षेत्र में प्रदूषण फैलने की शिकायत कुछ लोगों ने की गई थी। शिकायत कि जांच के लिए नागदा पहुंचे और तीन स्थानों से पानी के सैंपल लिए गए हैं।
एसएन द्विवेदी
आरओ, प्रदूषण विभाग

Divisional team reached Nagda to check the pollution of industry

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here