स्टेट हाईवे नंबर 17 को जोड़ने वाली पुलिया क्षतिग्रस्त

0
12

बारिश थमने से राहत शिविर में ठहरे लोग पहुंचे अपने-अपने घर

नागदा. शहर में लगातार जारी बारिश का दौर रविवार को थम गया. लेकिन बारिश कई परेशानी शहरवासी को दे गई. शहर के मध्य बनी चेतनपुरा पुलिया बारिश से क्षतिग्रस्त हो गई. 24 घंटे जल मग्र रहने से पुलिया दो स्थान से क्षतिग्रस्त हो गई, जिससे अब पुलिया से बड़े व भारी वाहन नहीं निकल पाएगे.

यदि समय रहते स्थानीय प्रशासन व जनप्रतिनिधि से पुलिया की मरम्मत या निर्माण नहीं किया तो कृषि उपज मंडी में सोयाबीन की फसल लेकर लाने वाले किसानों को परेशान होना पड़ेगा. इधर शहर में रविवार को दिनभर बूंदाबादी होती रही, कुछ देर तेज बारिश भी हुई.

बारिश कम होने से जनजीवन सामान्य होने लगा, रविवार को साप्ताहिक हाट होने से बाजार में कुछ रौनक देखने को मिली. राहत शिविर में ठहरे बाढ़ प्रभावित क्षेत्र के लोग रविवार को अपने-अपने घर को लौट गए। चंबल नदी का उफान भी कम होता जा

रहा है. नदी में तेजी से पानी उतर रहा है, बनबना तालाब से भी पानी का ओवर फ्लो कम हो गया, जिससे नागदा शहर की जल मग्र हुई चार में से तीन पुलिया से आवगमन प्रारंभ हो गया. जिससे प्रशासन ने भी राहत की सांस ली.

#पुलिया हुई क्षतिग्रस्त

नागदा शहर के मुख्य बाजार को स्टेट हाइवे नंबर 17 व बायपास से जोडऩे के लिए दशहरा मैदान के समीप चेतनपुरा के नाले पर एक पुलिया बनी है. तेज बारिश के चलते शनिवार को दिनभर पुलिया जल मग्र हो गई थी. पुलिया पर से शुक्रवार रात 3 बजे से पानी होने से आवगमन बंद हो गया था, जो रविवार सुबह 5 बजे प्रारंभ हुआ.

लगभग 24 घंटे से अधिक पानी में डूबे रहने से पुलिया दो स्थान से क्षतिग्रस्त हो गई. ऐसे में अब यदि पुलिया पर से भारी वाहन निकला तो वह कभी ढह सकती है। आगामी दिनों में कृषि उपज मंडी में सोयाबीन की आवक प्रारंभ होने वाली है. कृषि उपज मंडी में आने वाले किसान इसी पुलिया से मंडी में प्रवेश करते है.

मंडी से फसल भरकर ट्रक भी इसी पुलिया से वेयर हाउस या शहर से बाहर जाते है. ऐसे में अब यदि समय रहते पुलिया को दुरुस्त नहीं किया गया तो किसानों व शहर के व्यापारियों के लिए परेशानी खड़ी हो सकती है. चूंकि इस पुलिया से प्रतिदिन लगभग 200 से 300 चार पहिया वाहन निकलते है. इन में स्कूल बस भी शामिल है.

Culvert connecting state highway number 17 damaged

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here