Crime News

पांच लाख रुपए के लालच में ठेकेदार ने वृद्ध को उतारा मौत के घाट

Contractor kills old man for greed of five lakh rupees

नागदा. शहर में चार दिन पूर्व घर में घुसकर वृद्ध हरिमोहन पिता औंकार ललावत की हत्या कर चोरी की वारदात को अंजाम देने वाले आरोपी को पुलिस ने शनिवार सुबह धरदबोच लिया. आरोपी वृद्ध का मकान बनाने वाला ठेकेदार ही निकला. 4 से 5 लाख रुपए के लालच में आरोपी ने घटना को अंजाम दिया, लेकिन घर में से महज 45 हजार रुपए ही आरोपी के हाथ लग सके.

आरोपी पर पूर्व में भी मंडी थाने में बालत्कार का प्रकरण दर्ज है. आरोपी पवन पिता आत्माराम निवासी विद्या नगर को शिवपुरा में रेलवे फाटक के समीप से गिरफ्तार उसके पास हत्या में उपयोग कि गई बाईक भी जब्त कर आरोपी को न्यायालय में पेश किया. जहां से न्यायाधीश ने आरोपी का रिमांड मंजूर किया.

घटनाक्रम का 4 दिन में खुलासा होने पर एसपी सचिन अतुलकर ने पुलिस को 10 हजार रुपए पुरस्कार देने की घोषणा कि है. पूछताछ के दौरान पुलिस ने लगभग 30 लोगों से पूछताछ की। पुलिस ने घटनाक्रम का खुलासा शनिवार दोपहर 2 बजे बिरलाग्राम पुलिस थाने में आयोजित प्रेस वार्ता में किया. प्रेस वार्ता में एएसपी अंतरसिंह कनेश, एसडीएम आरपी वर्मा व सीएसपी मनोज रत्नाकर मौजूद थे.

चलिए जानते हैं क्या है घटनाक्रम

06 अगस्त दोपहर 3:45 बजे बिरलाग्राम पुलिस को सूचना मिली कि गवर्नमेंट कॉलोनी में एक मकान में एक वृद्ध हरिमोहन की लाश मिली और घर का सामन अस्त-व्यस्त तथा अलमारी में से लगभग 45 हजार रुपए गायब मिले. पुलिस ने प्रथम दृष्टया में ही शंका जताई कि किसी अज्ञात व्यक्ति ने चोरी की वारदात को अंजाम देते हुए वृद्ध की हत्या कर दी है. जिसके बाद पुलिस ने आरोपी की तलाश प्रारंभ कर दी.

5 लाख रुपए के लालच में कि हत्या, मिले 45 हजार

पुलिस के मुताबिक मृतक हरिमोहन ने कुछ दिन पूर्व ही उसका एक मकान लगभग 21 लाख रुपए में बेचा है. उक्त रुपए से हरिमोहन चंबल मार्ग पर एक मकान का निर्माण कर रहा है. जिसका ठेका ठेकेदान पवन को दिया गया था. ठेकेदार को यह लालच आ गया कि हरिमोहन ने घर में लगभग 5 से 6 लाख रुपए रखे होंगे.

इस सोच से पवन ठेकेदार को वारदात को अंजाम देने का प्लान बनाया और घटना को अंजाम देने के पहले लगातार दो दिन हीरालाल के घर पर आया और रैकी कि. इस दौरान पवन पूरे घुमकर देखा और यह पता कि की अलमारी कहा रखी तथा पीछे से रास्ता किधर है तथा वृद्ध घर में अकेला कब रहता है.

रैकी करने के बाद आरोपी पवन ने वारदात के लिए 6 अगस्त का दिन तय किया और सुबह साईट पर पहुंचा. ठेकेदार पवन को यह पता था कि प्रतिदिन सुबह 8 बजे साईट पर हीरालाल का लड़का ब्रजमोहन आता है, जिसके बाद सुबह 10 बजे पवन की पत्नी यानी ब्रजमोहन की मां आती है.

जो लगभग 3 से 5 घंटे बाद पुन: घर लौट जाते है. 6 अगस्त को भी ब्रजमोहन प्रतिदिन की तरह सुबह 8 बजे साईट पर आ गया, सुबह 10 बजे के दरमियान उसकी माता भी चाय लेकर आई. मां-बेटे के साईट पर आने के बाद आरोपी पवन ने दोपहर 12 बजे एक मजदूर की बाईक क्रं एमपी 13 डीपी 0843 ली और वह हिरलाल के घर के पीछे पहुंच गया.

आरोपी पवन ने मृतक के घर से लगभग 300 मीटर दूर बाईक को रखकर पैदल हीरालाल के घर पहुंचा, यहां पर उसने पीछे की दीवाल कूद कर अंदर प्रवेश किया. अंदर पहुंचते ही उसे हीरालाल नहीें दिखा तो उसने उसका इंतजार करने लगा. लगभग 5 मिनट के बाद जैसे ही हीरालाल अंदर आया वैसे ही, आरोपी पवन ने पीछे से मुंह पर कपड़ा बांधकर व दोनों हाथ पीछे से बांधकर गला दबाकर तथा हीरालाल के सिर पर संडासी से वार कर दिया.

चादर से मुंह बंधा होने के कारण हीरालाल की मौत हो गई. जिसके बाद आरोपी पवन ने अलमारी का लॉक खोलकर उसके अंदर रखे 45 हजार रुपए लेकर पीछे के रास्ते से ही फरार हो गया। दोपहर 3:30 बजे जब मृतक की पत्नी व बेटा साईट से लौटे तो पिता को मृत देखकर पुलिस को सूचना की.

चलिए जानते हैं कैसे आया गिरफ्त में आरोपी

घटना के बाद पुलिस ने जब जांच पड़ताल प्रारंभ की तो उस समय यह बात सामने आई कि घटना वाले दिन पवन ठेकेदार दोपहर 12 बजे के बाद से ही कार्य स्थल पर नहीं पहुंचा. पुलिस को यही से पवन पर शंका होने लगी. पुलिस ने 7 अगस्त की रात 11 बजे के दरमियान मृतक के बेटे ब्रजमोहन से ठेकेदार को फोन कराया कि वह 8 अगस्त से कार्य प्रारंभ कर दें.

जब ब्रजमोहन ने रात को ठेकेदार को फोन किया तो वह घबरा गया और बोला कि इतनी रात को फोन क्यों किया. गुरुवार सुबह 8 बजे आ जाऊंगा कार्य पर. अगले दिन गुरुवार सुबह पुलिस ने कार्य स्थल पर ही ठेकेदार निगरानी के दो जवानों को तैनात कर दिया, लेकिन पवन ठेकेदार कार्य स्थल पर नहीं पहुंचा तो पुलिस को शंक बढ़ता गया, पुलिस ने दोपहर को पुन: ब्रजमोहन से ठेकेदार को फोन कराया और कहा कि आप आए नहीं कार्य पर.

इस पर आरोपी पवन ने कहा कि में अभी अस्पताल में मां का उपचार कर रहा हूं, बाद में आता हूं. इधर पुलिस के दो जवान अस्पताल पहुंच गए और आरोपी पवन को पूछताछ के लिए बिरलाग्राम थाने ले आए. यहां पर पुलिस ने उससे रात तक पूछताछ कर छोड़ दिया अगले दिन पुन: पुलिस ने पवन को थाने पर बुलाया, शुक्रवार को लगभग 3 से 4 घंटे की पूछताछ के बाद उसके छोड़ दिया और शनिवार को पुन: पुलिस थाने आने को कहा. इधर पुलिस ने उसकी गतिविधियों पर नजर रखी तो पुलिस कुछ गतिविधि संदिग्ध नजर आई, पुलिस ने देखा कि पवन खूब खर्च कर रहा है.

पुलिस ने जब आरोप पवन की मोबाइल लोकेशन निकाली तो वह दोपहर 12 बजे से 3 बजे के मध्य व शाम 6 बजे गवर्नमेंट कॉलोनी में मिली. इधर शनिवार को जब पवन पुलिस थाने नहीं पहुंचा तो पुलिस ने उस पकड़ कर थाने लाई और सख्ती से पूछताछ कि, इस दौरान आरोपी पवन ने पूरी वारदात कबूल कर ली.

Contractor kills old man for greed of five lakh rupees
बिरलाग्राम पुलिस की गिरफ्त में पकड़ा गया आरोपी युवक.

Comment here