Chandrayaan-2 : ISRO को प्रज्ञान के उतरने का इंतजार

0
41

सदियों से चांद को देख रहे इंसान की तमन्ना पूरी होने को हैं. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ISRO Telemetry Tracking and Command Network-based Mission Operation Complex  पहुंच गए हैं. देश के 60 विद्यार्थियों का समूह भी ऐतिहासिक पल का गवाह बनने पीएम मोदी के साथ पहुंचा है. बता दें कि, ISRO का फूल फार्म (Indian Space Research Organisation) है.

48 दिनों की यात्रा पूरी कर चुका Chandrayaan-2 चांद की सतह से महज 2 किमी दूर है. जिसके बाद भारत विश्व का चौथा देश बन जाएगा जिसने चांद पर पहली बार कदम रखा. इसके पहले अमरीका रुस और चीन चांद पर कदम रख चुके हैं. बता दें कि, chandrayaan-2 launch time 15 july 2.43 pm हैं

शुक्रवार शनिवार की दरमियानी रात 1.53 बजे जैसे ही Chandrayaan-2 के लैंडर विक्रम ने चांद के दक्षिणि ध्रुव पर कदम रखा बेंगलूरु के इसरो टेलीमेट्री ट्रैकिंग एवं कमांड नेटवर्क स्थित मिशन ऑपरेशन कॉम्पलेक्टस में उपस्थितों वैज्ञानिकों के चेहरे पर मुस्कान छा गई. खुशी में झूमते हुए वैज्ञानिकों ने एक दूसरे को गले लगाया.

Chandrayaan-1 पर एक नजर

  • Chandrayaan-1 भारत का पहला महत्वकांक्षी लूनर मिशन था.
  • 2008 में श्री हरिकोटा सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र से छोड़ा गया था.
  • 380 करोड़ रुपए की लागत आई थी मिशन की.
  • 3400 से अधिक परिक्रमा की थी.
  • 312 दिन तक चंद्रयान-1 ने काम किया था.
  • मिशन से चांद पर बर्फ होने की पुष्टि हुई थी.
  • मिशन के दौरान चांद का वैश्चिक मेप तैयार हुआ था.

ISRO

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here