Crime News

भरभरा कर गिरा 40 साल पुराना जर्जर भवन, दो घरों में पसरा मातम

newsmug

पांच घंटे चला राहत कार्य, नस्तनाबूत किया मकान
नागदा. शहर में सोमवार दोपहर करीब 2.40 बजे जर्जर मकान गिराए जाने के दौरान मकान की छत भरभरा कर गिर गई. घटना में मकान मालिक समेत पांच लोग घायल हो गए. वहीं घटना में दो लोगों की मौत हो गई. गंभीर घायलों को प्राथमिक उपचार के बाद उज्जैन रैफर कर दिया गया.

दरअसल सोमवार दोपहर को जवाहर मार्ग रोड पर स्थित संदीप मेडिकल नामक भवन में जर्जर मकान को तोड़े जाने का कार्य तीन मजदूरों द्वारा किया जा रहा है. रतलाम से शहर मकान गिराने पहुंचे श्रमिकों ने जैसे ही ड्रील मशीन को चालू किया. तीन मंजिला इमारत भरभरा कर गिर गई.

घटना में मकान मालिक विजयसिंह रघुवंशी, मित्र रामप्रकाश राय निवासी श्रीराम कॉलोनी, श्रमिक राजू पिता मांगू निवासी कदमपाड़ा जिला रतलाम, बाबूलाल पिता नागूलाल निवासी ग्राम बनबना, गोपाल पिता मन्ना निवासी पेटलावद मलबे में दब गए. घटना में मकान मालिक के मित्र रामप्रकाश राय व श्रमिक राजू ने मौके पर ही दम तोड़ दिया.

क्या है पूरा मामला
दरअसल बारिश के पूर्व आपदा प्रबंधन के अंतर्गत जर्जर मकान मालिकों को नगर पालिका द्वारा नोटिस देकर जर्जर भवनों को स्वेच्छा से तोड़े जाने का नोटिस दिया जाता है. उसी क्रम में मकान मालिक विजयसिंह रघुवंशी को जर्जर भवन को तोड़े जाने का नोटिस दिया गया था.

जिसकों लेकर सोमवार को श्रमिकों की सहायता से जर्जर भवन को तोड़ा जा रहा था, लेकिन करीब 40 साल पुरानी होने के कारण ड्रील मशीन के कंपन्न को नहीं झेल सकी और तीन मंजिला इमारत गिर गई.

घटना की सूचना के बाद इस दौरान एसडीएम आरपी वर्मा, सीएसपी मनोज रत्नाकर, सीएमओ सतीष मटसेनिया, नायब तहसीलदार आरपी पाडेय, नपा इंजीनियर शाहिद मिर्जा, आबिद अली, थाना प्रभारी श्यामचंद्र शर्मा, नपाध्यक्ष अशोक मालवीय, नेता प्रतिपक्ष सुबोध स्वामी आदि मौजूद थे.

नपा अफसरों ने मौके पर पहुंचकर घटनाक्रम का पंचनामा बनाया हैं. घटना के बाद हरकत में आए प्रशासनिक अफसरों ने समीप मौजूद मकानों को खाली करवा दिया. क्षेत्र के करीब 100 मीटर के दायरे में आ रही दुकानों व मकान में रह रहे लोगों को बाहर जाने को कह दिया गया.

घटना के दौरान मंडी शहर की बिजली सप्लाए भी बंद कर दी गई. चूंकि मकान के उपर से 33 व 11 केवी विघुत लाइन गुजर रही है. जिसके चलते पूरे शहर की बिजली सप्लाए प्रभावित हुई.

इधर घटनाक्रम में नगर पालिका की लापरवाही उजागर हो रही है. कारण समय रहते नपा अफसर जर्जर मकान मालिकों पर कार्रवाई करते तो इस प्रकार की घटना नहीं होती.

और दो घरों में मातम नहीं पसरता. नगर पालिका नागदा ने शहर में 110 मकान चिह्नित कर मालिकों को मकान ढहाए जाने का नोटिस थमाएं है. नगर पालिक द्वारा गिराए गए मकान का खर्च मकान मालिक विजयरघुवंशी से वसूल करेगी.

घटना के बाद नपा प्रशासन व राजस्व विभाग की टीम ने मौके पर पहुंचकर मकान को जमींदोज किया. मकान ढहाए जाने का कार्य शाम 4 बजे शुरू हुआ जो रात 9 बजे तक जारी रहा.

घटना के बाद से जवाहर मार्ग पर दौरान पुलिस प्रशासन ने मुख्य मार्ग पर यातायात बंद कर दिया. पूरे मार्ग पर ब्रेरिके्रट्स लगाए गए. भारी संख्या में पुलिस बल भी तैनात कर दिया गया.

मार्ग बाधित होने से आम लोगों को परेशान होना पड़ा. मकान मालिक विजयसिंह रघुवंशी ने मकान गिराने का ठेका रतलाम के एक ठेकेदार हमीद को दिया था.

Comment here