Latest News in Hindi Nagda

जावरा तहसील के गांव परवलिया के एक युवक ने नागदा को राजस्थान के बदमाश को बेचे थे हथियार

a-young-man-from-village-parvalia-of-javra-tehsil-sold-weapons-to-nagda-a-crook-in-rajasthan
  • लाला को हथियार बेचने वाले की तलाश में पुलिस ने जावरा में दी दबिश
  • जावरा तहसील के गांव परवलिया के एक युवक ने नागदा को राजस्थान के बदमाश को बेचे थे हथियार

नागदा। शहर के बदमाश सलमान लाला और राजस्थान के बदमाशों को हथियार बेचने वाले आरोपी की तलाश में नागदा पुलिस ने जावरा क्षेत्र में दबिश दी। लेकिन पुलिस को सफलता हाथ नहीं लगी और बैरंग लौटना पड़ा।

इधर पुलिस द्वारा कुख्यात बदमाश लाला को जेल भेजने के बाद शहर में पुलिस की कार्यप्रणाली पर प्रश्र चिन्ह खड़े हो रहे है। चूंकि पुलिस ने आरोपी लाला का महज 2 दिन का रिमांड लिया और कुछ जानकारी नहीं जुटा सकी।

पुलिस यह भी जानकारी नहीं जुटा पाई कि आरोपी लाला ने 11 माह तक कहा-कहा पर फरारी काटी थी और उसकी फरारी में किस किस ने सहयोग किया था। हालांकि पुलिस दावा कर रही है कि फरारी के दौरान लाला पूरे समय राजस्थान में रहा।

गौरतलब है कि पुलिस ने लाला को बुधवार को न्यायालय में पेश किया था। जहां से उसे जेल भेज दिया गया। पुलिस ने लाला को सेंट्रल जेल उज्जैन भेजा है।

जावरा से बैरंग लौटी पुलिस

पुलिस ने आरोपी लाला को 9 मई को सुबह चंबल मार्ग से गिरफ्तार किया था। पुलिस ने लाला के साथ उसके 4 साथी इमरान पिता ईरान खान निवासी गांव देवली थाना अरनोद जिला प्रतापगढ़ राजस्थान, अलफेज पिता नजीम खान निवासी मुगलपुरा जावरा जिला रतलाम व दो भाई रेहान तथा सलमान पिता रईस एहमद खान दोनों निवासी गांव नौगांव थाना अरनोद जिला प्रतापगढ़ राजस्थान को गिरफ्तार किया था।

आरोपियों के पास भारी मात्रा में अवैध हथियार का जखिरा मिला था। जिसमें लगभग 800 कारतूस व पांच पिस्टल शामिल थी।

पुछताछ के दौरान आरोपियों ने बताया था कि यह हथियार उन ने उसके एक साथी शमी उल्लाह पिता नजीम खान निवासी गांव परवलिया थाना रिंगनोद जिला रतलाम से खरीदे थे।

पुलिस ने इस आरोपी कि तलाश में बुधवार को जावरा क्षेत्र में दबिश दी थी, लेकिन वह नहीं मिला। जिससे पुलिस को बैरंग लौटना पड़ा था।

नहीं उगला सकी पुलिस राज

पुलिस गिरफ्त में लगभग 11 माह बाद आए बदमाश लाला से पुलिस कोई खाज राज नहीं उगला सकी। गौरतलब है कि लाला पर 10 अपराध दर्ज है। पुलिस महज एक ही बात उगला सकी कि उसने कार इंदौर से चोरी कि थी।

जबकि कई ऐसे सवाल थे, यदि पुलिस सख्ती से पुछताछ करती तो शहर के कई राजनेता व पुलिस जवानों के चेहरे उजागर हो जाते।

चूंकि लाला के कई लोगों से संपर्क थे। जिस के माध्यम से लाला ने नागदा क्षेत्र में ही 11 माह तक फरारी काटी। यह बात इस से सिद्ध होती है कि लाला को जब पुलिस ने न्यायालय में पेश किया तो वहां कई लोग मौजूद थे। यहां तक कुछ लोग उसको उज्जैन जेल तक छोडऩे भी गए थे।

इनका कहना
बदमाश सलमान को जिस से हथियार बेचे थे उसकी तलाश में जावरा क्षेत्र में दबिश दी थी, लेकिन सफलता नहीं मिली। लाला का रिमांड और मांगा था, लेकिन नहीं मिला। लाला ने अधिकांश समय फरारी राजस्थान में काटी।
श्यामचंद्र शर्मा
थाना प्रभारी, नागदा

सांकेतिक तस्वीर

Comment here